15 अगस्त न्यू जर्सी टाउन हाल में -2010

Advertisements

बेलापुर‍-उर्दू कवि सम्मेलन

संकल्प वेलफ़ैयर असोशिएशन द्वरा आयोजित विशाल हिन्दी-उर्दू कवि सम्मेलन 27 jan 2013

संकल्प वेलफ़ैयर असोशिएशन द्वरा आयोजित विशाल हिन्दी-उर्दू कवि सम्मेलन 27 jan 2013

साहित्य सेतु सन्मान

Sahity Setu Sanmaan

Sahity Setu Sanmaan

तमिलनाडू हिन्दी अकादमी एवं धर्ममूर्ति राव बहादुर कलवल कणन चेट्टि हिन्दू कॉलेज, चेन्नई के संयुक्त तत्वधान में आयोजित विश्व हिन्दी दिवस एवं अकादमी के वर्षोत्सव का यह भव्य समारोह (10 जनवरी 2013)

‘भारतीय-नार्वेजीय सूचना एवं सांस्कृतिक फोरम 2011

Oslo Sanmaan

7 मई, 2011  भारतीय- नार्वेजीय सूचना एवं सांस्कृतिक फोरम , (स्थान) वाइतवेत कल्चर सेंटर ओस्लो में नार्वे का स्वतन्त्रता दिवसगुरुदेव रवींद्र नाथ टैगोर के १५० वे जन्मदिन पर  इस संस्था के अध्यक्ष सुरेशचंद्र चन्द्र शुक्ल ‘शरद आलोक’ जी के आयोजन में मनाया गया। मुख्य अतिथि  स्थानीय मेयर थूर स्ताइन विंगेर और भारतीय दूतावास के सचिव बी के श्रीराम जी ने अध्यक्षता में विशिष्ट अतिथि रही जानी-मानी यू एस ए की कवियित्री श्रीमती देवी नागरानी जिन्हें हिंदी साहित्य सेवा के लिए सम्मानित किया गया.

छवि ७. आईना अक्स

छवि ७. आईना अक्स
c-7.jpg
द्रश्य मेरे जीवन का
सामने मेरे खडा़
ऐसे जैसे
आईना और अक्स
बाल अवस्था, काट जवानी
हरी भरी जो धानी धानी
अब पतझड़ में तन्हा तन्हा
खडा हुआ बिन दाना पानी
मूक, निराधार
पर मन में इक आस लिए
कोई तो उसका है
जो बिन बताये
छलकेगा उस पर
बनकर शबनमी सी बूँद
उसकी प्यास बुझाने॥

छवि ६. रूह के लिये

c6.jpg 

ि. रूह के लिये

रूह के लिये कोई कै़द नहीं है

बस, इस पिंजर शरीर की सलाखें

उसे बाँधे हुए है बंधन में॥

मुक्त होने की छटपटाहट

पल पल महसूस होती है

रिहाई के तलबगार सभी हम,

पा सकते हैं अभी यहाँ

बस! उल्टे कुँए की गहराई से

पार होकर जाना है॥

वहीं पर, हाँ वहीं पर

इक नये सूरज की रौशनी

एक नहीं, अनेकों सूरज

चाँद, सितारे,

झिलमिलाती नूरानी वह ज्योति

जगमग जगमग जलकर

राह रौशन कर रही है,

अँधेरे को चीरकर

अभी उसी तक जाना

आगे जाकर पाना है॥

 ॰ 

छवि ६ . वो मेरे अँदर है

 

    

पुखतगी से बंद कर

ठक ठक करता यह कभी

कभी करे है वह

पर मैं

दाँत भींचे शांत

                                                       गुम होना चाहती हूँ, यूँ

 

भनक पडे न किसको ये

मैं अदर रहती हूँ

रौशनदान कभी इक खोल

साँस मैं ले लेती हूँ

दुनिया के सब रंग देख

आँखें बंद करती हूँ

उम्र गुजारी ऐसा करते

पर अब

इसमें कोई शक नहीं

जो मैं बाहर ढूँढ रही हूँ

वो मेरे अंदर है॥

छवि ५: मँजिल तेरी दूर

c-5.jpg
मुसाफिर मंजि़ल तेरी दूर
जाना बहुत ज़रूर….मुसाफिर॥
लंबा रस्ता, कदम है भारी
तन है चकनाचूर…मुसाफिर॥
पाप की गठरी सिर पर भारी
फिर तू क्यों मग़रूर…मुसाफिर॥
आप किया है आप उठाना
खुद का तू मज़दूर…मुसाफिर॥
॰॰

छवि ५. हाइकू

श्रम दिव्य है
जीवन सुँदर ये
मँगलधाम

प्यास बुझाए
जीवन मरुथल
आँख का पानी
३.
सब पडाव
हार हो चाहे जीत
हमसफर

हमसफर
है मेरे सफर की
ये तन्हाइयाँ
५.
माया छळनी
पग पग मुझको
डँक लगाए
६.
पाप पुञ्य को
मजबूरी या मर्ज
न पहचाने
७.
बहरा गूँगा
शहर पत्थरों का,
सुनता कौन?

छवि ४. दस्तक दे रहा है

chavi-4.jpg

दस्तक दे रहा है

वातावरण मौन
बाहर शोर
विपरीत उसके
वह लीन है
आँखें मूँदे बाहर
अंदर की वह खोल रहा है
कोशिश में वह डोल रहा है
पर
दस्तक फिर भी दे रहा है
हाँ!
दस्तक फिर भी दे रहा है॥
॰॰
छवि ४. एक आत्मपिंजर शरीर
पिघलती हुई भूख
ठंडी से ठिठुरकर
थम गई है
एक आस
तिनका तिनका
भूख प्यास
साँसों की सरगम बनकर
धौंकनी सी चल रही है
भूख से शरीर ठंडा हो सकता है
पर आत्मा नहीं
उसका विश्वास है
वह शरीर नहीं है
आत्मा है
परमात्मा की याद में
पडा पडा उसी में विलीन
होने का प्रयास करती
एक आत्मा
माध्यम शरीर॥

छवि ४. दोहेजीवन तो इक देन है, दौलत जिसकी साँस
काल शिकारी आएगा, बनके लुटेरा बाज॥

मायूसी मँडरा रही, मन भी बहुत उदास
घायल पँछी क्या करे, कैसे हो परवाज॥

खुश हो बोया कल उसे, पाना तुमको आज
लाठी उसकी से डरो, करे न वो आवाज॥

छवि ३. सँगम

 

 

 

chavi3.jpg

“मौत की गोद
में ज़िंदगी आबाद
अब हो रही”

खोखला जिस्म
खोखली साँसें
पर, फिर भी रुक रुककर
चलने की चाह ज़िंदा है
शायद इसलिए ही
कच्ची उम्र की डोर
पीढी़ ढो रही है.
कदम लड़खडा़कर
सँभलने लगे है
ढलती उम्र है पर
सूर्यास्त शायद दूर.
सीने से लिपटी
हर खुशी दम तोड़ती है
हर आस रेत सी
क्यों हाथ से फिसलती है?
जीवन की गरमी
मौत की ठंडक
दोनों समुद्र के किनारे
पर मिलती हैं जब गले
हैरान होकर ज़िंदगी
पूछती है मौत से
“पहले क्यों ना तू मिला?
क्यूँ मिली थी ज़िंदगी?”
“ढळ गई थी उम्र पर
ढला न था सूरज तेरा ए जिँदगी!
चलो छोडो गिले शिकवे
जीवन है यतार्थ
जब तू मिली है मुझसे
और
मैं मिला हूँ तुझसे.”

**
छवि ३. रौशन मीनार

आस उम्मीद जिंदा मुझमें
और रहेगी तब तक
जब तक
चलती रहेगी, निडर हो
मेरी साँसें
सँग सँग मेरे
उस क्षितिज की ओर
जहाँ कल
उम्मीद का इक नया सूरज
फिर से उदय हो
मेरे वजूद का
रौशन मीनार कहलाएगा.
॰॰
छवि ३. ‍‍‍‍ ‍अः सच की सरहद

ज़िंदगी की शान है
सूरज अस्त होने तक
इन्सान की आन है
ज़िंदगी ढलने तक.
सच यह भी है
सच वह भी है
हर दौर से गुजर कर ज़िंदगी
हर पडा़व पर
ले साँसें, उनको सहलाती
सोच रही है
“जाना था सफ़र पर मुझे
क्यों मैं होश में बेहोश रही
क्यों ना भरम की हद को पार कर
सच की सरहद छू सकी
हाँ छू सकी!!!

छवि २:. साथी‍‌

 

 

chavi-2.jpg

 

तन के साथी, मन के साथी
मिलकर बोझ उठाएँगे
मेहनत मजदूरी को दोनों
अपना ध्येय बनाएँगे.

 

पत्थर गारा जो भी होगा
हाथ से हाथ बटाएँगे
एक हंसे दूजा मुस्काये
मिलकर बोझ उठाएँगे.

 

वादा किया जो इक दूजे से
मिलकर उसे निभाएँगे
जीवन पथ पर कदम मिलाकर
दोनों बढ़ते जाएँगे.

« Older entries

  • Blog Stats

  • मेटा