हर दुआ हो गई बेअसर

गज़लः

बददुआओं का है ये असर
हर दुआ हो गई बेअसर.

ज़ख्म अब तक हरे है मिरे
सूख कर रह गए क्यों शजर.

यूं न उलझो किसी से यहां
फितरती शहर का है बशर.

राह तेरी मेरी एक थी
क्यों न बन पाया तू हमसफ़र.
वो मनाने तो आया मुझे
रूठ कर ख़ुद गया है मगर.

चाहती हूं मैं ‘देवी’ तुझे
सच कहूं किस क़दर टूटकर.

जाने-जहाँ हमारा

ग़ज़लः
वो ही चला मिटाने नामो-निशाँ हमारा
जो आज तक रहा था जाने-जहाँ हमारा

दुशमन से जा मिला है अब बागबाँ हमारा
सैयाद बन गया है लो राज़दाँ हमारा

ज़ालिम के ज़ुल्म का भी किससे गिला करें हम
कोई तो एक आकर सुनता बयाँ हमारा

हर बार क्यों नज़र है बर्क़े-तपाँ की उसपर
हर बार है निशाना क्यों आशियाँ हमारा

दुश्मन का भी भरोसा जिसने कभी न तोड़ा
बस उस यकीं पे चलता है कारवाँ हमारा

बहरों की महफ़िलों में हम चीख़ कर करें क्या
चिल्लाना-चीख़ना सब है रायगाँ हमारा

परकैंच वो परिंदे हसरत से कह रहे हैं
‘देवी’ नहीं रहा अब ये आसमां हमारा

चहरा छुपाए बैठे हैं

ग़ज़लः
वो फ़स्ले-गुल की उमीदें लगाए बैठे हैं
जो अपने ज़हन में सहरा तपाए बैठे हैं

ज़रूरत उनको अब है आइना दिखाने की
वतन-फ़रोश जो चहरा छुपाए बैठे हैं

छिपा के हाल जो अपना हमारा पूछा किये
उन्हीं को ज़ख़्म हम अपने दिखाए बैठे हैं

लगेगी देर न उसको शोला बनने में
दबी-सी आग जो दिल में छिपाए बैठे हैं

ये जानते हुए है ज़िंदगी बड़ी ज़ालिम
उसी को दिल से हम अपने लगाए बैठे हैं

ज़मीं पे पांव कभी जिनके टिक नहीं पाते
वो आसमान को सर पर उठाए बैठे हैं

उदास बैठे हुए हैं किसी की राह में हम
दिया इक आस का ‘देवी’ जलाए बैठे हैं

देवी नागरानी

है हमसफ़र ग़रीब मेरा, बेवफ़ा नहीं

गज़लः

मिट्टी का मेरा घर अभी पूरा बना नहीं
है हमसफ़र ग़रीब मेरा, बेवफ़ा नहीं.

माना कि मेरे दिल में ज़रा भी दया नहीं
फिर भी किसी के बारे में कुछ भी कहा नहीं.

आंगन में बीज बोए कल, अब पेड़ हैं उगे
हैरत है शाख़ पर कोई पत्ता हरा नहीं.

विशवास कर सको तो करो, वर्ना छोड़ दो
इस दम समय बुरा है मेरा, मैं बुरा नहीं.

अच्छी बुरी हैं फितरतें, टकराव लाज़मी
शतरंज का हूं मोहरा मैं फिर भी चला नहीं.

रस्मों के रिश्ते और हैं, जज़बात के हैं और
मैंने ज़बां से नाम किसी का लिया नहीं.

शादाब इसलिये भी है दिल की मेरी ज़मीं
क्योंकि मेरा ज़मीर है जिंदा, मरा नहीं.

रज़ा रब की पाई

गजलः
नहीं उसने हरगिज रज़ा रब की पाई
न जिसने कभी हक की रोटी कमाई.

रहे खटखटाते जो दर हम दया के
दुआ बनके उजली किरण मिलने आई.

मिली है वहां उसको मंज़िल मुबारक
जहां जिसने हिम्मत की शम्अ जलाई.

खुदी को मिटाकर खुदा को है पाना
हमारी समझ में तो ये बात आई.

रहा जागता जो भी सोते में देवी
मुक़द्दर की देता नहीं वो दुहाई.

वो मुस्काते हैं

देख कर तिरछी निगाहों से वो मुस्काते हैं
जाने क्या बात मगर करने से शरमाते हैं.

मेरी यादों में तो वो रोज चले आते हैं
अपनी आँखों में बसाने से वो कतराते हैं.

दिल के गुलशन में बसाया था जिन्हें कल हमने
आज वो बनके खलिश जख्म दिये जाते हैं.

बेवफा मैं तो नहीं हूं ये उन्हें है मालूम
जाने क्यों फिर भी मुझे दोषी वो ठहराते हैं.

मेरी आवाज़ उन्होंने भी सुनी है, फिर क्यों
सामने मेरे वो आ जाने से करताते हैं.

दिल के दरिया में अभी आग लगी है जैसे
शोले कैसे ये बिना तेल लपक जाते हैं.

रँग दुनियां के कई देखे है देवी लेकिन
प्यार के इँद्रधनुष याद बहुत आते हैं. 118

उस शिकारी से ये पूछो

ग़ज़ल

उस शिकारी से ये पूछो पर क़तरना भी है क्या
पर कटे पंछी बता परवाज़ भरना भी है क्या?

आशियाना ढूंढते हैं, शाख़ से बिछड़े हुए
गिरते उन पत्तों से पूछो, आशियाना भी है क्या?

अब बायाबां ही रहा है उसके बसने के लिए
घर से इक बर्बाद दिल का यूँ उखड़ना भी है क्या?

महफ़िलों में हो गई है शम्अ रौशन, देखिए
पूछो परवानों से उसपर उनका जलना भी है क्या?

वो खड़ी है बाल खोले आईने के सामने
एक बेवा का संवरना और सजना भी है क्या?

पढ़ ना पाए दिल ने जो लिक्खी लबों पर दास्तां
दिल से निकली आह से पूछो कि लिखना भी है क्या?

जब किसी राही को कोई रहनुमां ही लूट ले
इस तरह ‘देवी’ भरोसा उस पे रखना भी है क्या. 117

होंठ हैं सिले अब तो

गजल
शहर अरमानों का जले अब तो
शोले उठते हैं आग से अब तो

जान पहचान किसकी है किससे
हैं नक़ाबों में सब छुपे अब तो

चाँदनी से सजे हैं ख़्वाब मेरे
धूप में जलते देखि ये अब तो

ऐब मेरे गिना दिये जिसने
दोस्त बनकर मिला गले अब तो

मन की कड़वाहटों को पी न सकी
हो रही है घुटन मुझे अब तो

वहशी मँज़र जो देखा आंखों ने
ख़ुद ब ख़ुद होंठ हैं सिले अब तो

देवीदिल के हज़ार टुकड़े हैं
हम हज़रों में बंट गए अब तो. 64

शहर में उज़डी हुई देखी कई हैं बस्तियां

शहर में उज़डी हुई देखी कई हैं बस्तियां
हर तरफ देखे खंडर, देखीं फ़क़त बरबादियां.

कहते हैं बेकान दीवारें भी सुन लेती हैं बात
ग़ौर से सुनकर तो देखो तुम कभी खामोशियां.

पलकें आंखों के लिये बोझिल कभी होती नहीं
किरकिरी महसूस हो तो देख बस परछाइयां.

रश्ते तो विश्वास से पलते हैं दौलत से नहीं
वर्ना क्यों कर टूटते दिल, टूटती क्यों शादियां.

धूप दुख और छाँव सुख का है समुंदर ज़िंदगी
जो मुक़द्दर का सिकंदर वो ही जीते बाज़ियां.

जान पाओगी तुम इस शोर में अपना वजूद
खुद से मिलने पर देवी’, भायेंगी तन्हाइयां. 111

शोर दिल में मचा नहीं होता

शोर दिल में मचा नहीं होता

गर उसे कुछ हुआ नहीं होता॰

काश! वो भी कभी बदल जाते

सोच में फासला नहीं होता॰

कुछ कशिश है ज़मीन में वर्ना

आसमाँ यूँ झुका नहीं होता

झूठ की बेसिबातियों की क़सम

सच के आगे खड़ा नहीं होता

अपना नुक्सान यूं न वो करता

तैश में आ गया नहीं होता

नज़रेआतिश न होती बस्ती यूं

गर मेरा दिल जला नहीं होता

दर्द देवीका जानता कैसे?

ग़म ने उसको छुआ नहीं होता

« Older entries

  • Blog Stats

  • मेटा