श्री गणेश बिहारी “तर्ज़”

ganesh-behari.jpg    Charage-Dil

 

 

 

श्री गणेश बिहारी “तर्ज़” लखनवी साहिब ने ‘चराग़े-दिल’ के लोकार्पण के समय श्रीमती देवी नागरानी जी के इस गज़ल-संग्रह से मुतासिर होकर बड़ी ही ख़ुशबयानी से उनकी शान में एक कत्ता स्वरूप नज़्म तरन्नुम में सुनाई  उसके भाव आप सभी से बाँट रही हूँ …अल्फ़ाज़ हैं:

लफ्ज़ों की ये रानाई मुबारक तुम्हें देवी

रिंदी में पारसाई मुबारक तुम्हें देवी

फिर प्रज्वलित हुआ ‘चराग़े‍-दिल’ देवी

ये जशने रुनुमाई मुबारक तुम्हें देवी.

 अश्कों को तोड़ तोड़ के तुमने लिखी गज़ल

पत्थर के शहर में भी लिखी तुमने गज़ल

कि यूँ डूबकर लिखी के हुई बंदगी गज़ल

गज़लों की आशनाई मुबारक तुम्हें देवी

ये जशने रुनुमाई मुबारक तुम्हें देवी.

 शोलों को तुमने प्यार से शबनम बना दिया

एहसास की उड़ानों को संगम बना दिया

दो अक्षरों के ग्यान का आलम बना दिया

‘महरिष’ की रहनुमाई मुबारक तुम्हें देवी

ये जशने रुनुमाई मुबारक तुम्हें देवी.

श्री गणेश बिहारी “तर्ज़” लखनवी

लोखन्डवाला,  मुँबई।

 

 

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

  • Blog Stats

  • मेटा

  • %d bloggers like this: