Friends of International Sindhis-Seminar

2012 Nov Sindhi 005रविवार दिनांक 25 नवम्बर 2012, Friends of International Sindhis  की ओर से आयोजित सेमिनार “सिंधी भाषा और नई पीढ़ी” गोविंदधाम, खार, मुंबई में सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक सफलता पूर्ण रूप से सम्पन्न हुआ।

कार्यक्रम का आगाज ज्योत जगाकर किया गया, जहां मौजूद रहे संस्था के चेयरमैन श्री मुरली अदनानी, हरेश मीरचंदानी, डॉ॰ कविता लालचंदानी, होतचंद आडवाणी (कॉलेज प्रिन्सिपल), श्री होलराम हंस, टेकचंद मस्त, मनोहर देव, विजय लखानी।

इस कार्यक्रम को दो सत्रों में अंजाम दिया गया। पहले सत्र में इस विषय पर छः  पेपर पढे गए जहां सभी ने अपने अपने विचार पेश किए, कि किस प्रकार नई पीढ़ी के लिए कारगर व्यवस्थाएँ ज़ारी करनी चाहिए ताकि वे अपनी भाषा से खुद को जोड़ पाएँ।

(लक्ष्मण सजनानी, शोभा बंभवानी, वीणा शिरंगी, मुरली अदनानी, काजल केवलरामनी, देवी नागरानी, माखीजा जी, डॉ॰ सतराम माखीजा)

पठनीयता के लिए देवनगीरी लिपि को प्रयोग में लाने के लिए प्रस्ताव रखे गए। सिन्धी तीज त्योहार का प्रसारण आधुनिक धनद से किया जाना चाहिए। प्रपत्र पढ़ने वाले रहे -डॉ॰ जेठो लालवानी (अहमदाबाद), वीणा शिरंगी (दिल्ली), देवी नागरानी (मुंबई), सरिता शर्मा (ठाणे), मीना रूपचंदनी (उलहासनगर), पंडित सुदर्शन शर्मा(माहिम)। सत्र की अध्यक्षता की लेखक होलराम हंस, व श्री टेकचंद मस्त ने। सभी साहित्यकारों का व मुखी महमानों का शवल, सुमन से सत्कार हुआSanmaan

दूसरे दौर में मशहूर पत्रकार प्रेम तोलानी, मदन जुमानी ने भी अपने वीचार भाषा और नौजवान पीढ़ी को लेकर सामने रखे। अंत में अध्यक्षता के रूप में दोनों अध्यक्षों ने प्रतिकृया स्वरूप सामने रखे। पेपरॉन में जो सुझाव सामने आए वे सकारात्मक व सार्थक लगे।

सम्मेलन में उपस्थित अन्य मुख्य महमान जो मौजूद रहे वे थे-जीतू जगवानी, उत्तम खुशालानी, अशोक रामचंदनी, भाऊ हरेश मीरचनदानी, लक्ष्मण भगतानी, लधाराम नागवानी, श्री किशन वरयानी, बलराम कुकरेजा, नंदलाल बजाज, श्री नारी सावलानी, शोभा लालचंदानी, राम लालचनदानी, साजन नारवानी, व सुधा नारवानी, गायिका काजल चंदीरामानी, रेलु गेहानी,  घनश्याम दूदानी, लाल खत्री, प्रेम वरयानी, टी मानवानी आनंद।

इस सेमिनार को सफल बनाने में जिनकी सक्रिय भागीदारी व सहकार रहा वे थे डॉ॰ सतराम माखीजा, बिहारी शहरी, शोभा भंभवानी, लक्ष्मण सजनानी। दिन भर चाय नाश्ते, दुपहर के भोजन का अच्छा आयोजन किया गया। जयसिंध जयहिंद

देवी नागरानी

Advertisements

1 टिप्पणी

  1. फ़रवरी 11, 2013 at 6:12 अपराह्न

    तव्हां खे वाधायूं


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

  • Blog Stats

  • मेटा

  • %d bloggers like this: