TNHA-विश्व हिन्दी दिवस 2013

 Sahity Setu Sanmaan

Sahity Setu Sanmaan

तमिलनाडू हिन्दी अकादमी एवं धर्ममूर्ति राव बहादुर कलवल कणन चेट्टि हिन्दू कॉलेज, चेन्नई के संयुक्त तत्वधान में आयोजित विश्व हिन्दी दिवस एवं अकादमी के वर्षोत्सव का यह भव्य समारोह 10 जनवरी 2013, सफलता पूर्ण सम्पन्न हुआ। उपस्थित मुख्य अतिथि रहे श्री सुनील चोपड़ा,( आयकर ऑम्ब्ड्स्मैन -चेन्नई तथा पांडुचेरी), केंद्रीय हिन्दी समिति के सदस्य, प्रख्यात तेलुगू-हिन्दी साहित्यकार तथा तमिलनाडू हिन्दी अकादेमी के अध्यक्ष श्री बलशौरि रेड्डी जी, उन्होने हिन्दी दिवस के महत्वता पर रोशनी पेश करते हुए, दक्षिण भारत तथा चेन्नई महानगर को एक उर्वरा भूमि कहा। इसमें कोई अतिश्य्योक्ति नहीं, सकारात्मक व सार्थक प्रयास वहाँ जिस निष्ठा के साथ हिन्दी सेवी कर रहे हैं, उन्हें बधाई।SSSanmaan

आजीवन हिन्दी सेवा सन्मान की शिरोमणि विभूतियाँ डॉ॰ एन॰ सुंदरम, डॉ॰ एम॰ शेषण, डॉ॰ आर॰ शौरिराजन, डॉ॰पी॰ के॰ बालसुब्रमण्यम, डॉ॰ एस॰ सुब्रसुब्रह्मणियन ‘विष्णुप्रिया’ का सन्मान हुआ। अन्य राज्यों से हिन्दी विद्वान डॉ॰ कुसुम गीता (कर्नाटक), डॉ॰ जे रामचंद्रन नायर (केरल), श्रीमति देवी नागरानी (महाराष्ट्र-साहित्य सेतु सन्मान) डॉ॰ पी वी जगनमोहन (उत्तर प्रदेश) का भी सन्मान हुआ।DSC_1054

हिन्दी भाषा एवं साहित्य के विकास के योगदान के लिए  साहित्य सन्मान दिया गया-डॉ॰ निर्मला एस मौर्य (चेन्नई), डॉ॰ ए भवानी(तिरुनेलवेली), श्री प्रहलद श्रीमली (चेन्नै), श्री वी आर सुरेश( उडुमलपेट), डॉ॰ जयशंकर बाबू (पुदुचेरी), डॉ॰ एस बशीर (चेन्नै) श्रीमती के वी यमुना (चेन्नै) का सन्मान किया गया।TNHA group

  भोजन के उपरांत आयोजित वार्षिकोत्सव में पहले संस्कृतिक कार्यक्रम हुआ, जिसमें देवी नागरानी का ग़ज़ल प्रस्तुतीकरण, स्वर्ण वर्षा गुरुमूर्ति का एकल भरतनाट्यम, पी जान विल्लियम टीम का लाजवाब मूक नाटक प्रस्तुतीकरण तथा एस एम विनोदिनी, अनिता, भावना का एकल गायन सम्पन्न हुआ।

Swarn Varsha

देवी नागरानी के नेत्रत्व में आयोजित कवि-गोष्टी में विशेष रहे प्रहलाद श्रीमाली, संचालक अनिल अवस्थी और मौजूद शायर: श्री शशिलेन्द्र कुमार गुप्त, श्री जवाहरलाल मधुकर, प्रो॰ सी मनिकंठन, श्री सुमन अग्रवाल, पी आर वासुदेवन, संजय रामन, कुमारी नेहा प्रियदर्शिनी, जमुना कृष्णराज, श्रीमती रजनी, श्री एन गुरुमुर्ति, श्री उदय मेघानी, श्रीमती जैनब बी, मंजु रस्तोगी, दिलीप चंचल, भारत कुमार, प्रो॰ जैनब  बी,  मिट्ठू मिठास, कार्यध्यक्ष श्रीकृष्ण चंद चौरडिया ने सभी का स्वागत किया।

जिस निष्ठा से हिन्दी सेवी शागिर्दों ने इस कार्यक्रम में सहयोग दिया वह काबिले तारीफ़ है, सहयोगी शागिर्दों का सुमन और पदक से सन्मान एक प्रोत्साहजनक क़दम रहा। अनेक विध्यार्थियों को stationary प्रदान की गई। शिक्षा के क्षेत्र में यह प्रयास एक मार्गदर्शन का प्रतिनिधित्व कर रहा है।

सम्मेलन में कुछ प्रस्ताव पारित हुए जिनके सशक्त समाधान हासिल करने की संभावनाओं के द्वार इस विकास की राह पर खुले हुए हैं। श्री बलशौरि रेड्डी जी ने , डॉ॰ सज्जन मेहता, श्रीमती मेहता, देवी नागरानी, श्री सुमन अग्रवाल जो सेवा समिति के प्रतिनिधित्व में करी कराते रहते हैं, सभा को संबोधित किया। समारोह समार्पण राष्ट्रगान के साथ हुआ, राष्ट्रीय एकता, साहित्य-संस्कृति की तरंगें फिज़ाओं में फैलती रही, जय हिन्द, जय हिन्दी।

देवी नागरानी

Advertisements

3 टिप्पणियाँ

  1. फ़रवरी 1, 2013 at 1:07 अपराह्न

    आपके व्यक्तित्व को सलाम

  2. डॉ राजकुमार पाटिल said,

    फ़रवरी 4, 2013 at 6:08 पूर्वाह्न

    आपको साहित्य सेतु सम्मान की बधाई हो…मैं पेशे से एक डॉक्टर हूँ और कविता लिखना मेरा शौक है, मैं ग़ज़ल लेखन कला सम्बन्धी श्री आर.पी. शर्मा “महर्षि”जी की किताब खरीदना चाहता हूँ कृपा कर मुझे उनका ईमेल और मोबाइल नंबर drraj49@gmail.com पर भेजने का कष्ट करे..यदि उनकी यह किताब आनलाइन उपलब्ध हैं तो भी बताये…धन्यवाद


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

  • Blog Stats

  • मेटा

  • %d bloggers like this: