साईं युधिष्टर लाला के हाथों -भजन-महिमा

अखिल भारत सिन्धी बोली प्रचार सभा की ओर से 100 वाँ राष्ट्रीय अधिवेशन 27-28 ओक्टोबर 2012, पूज्य शादानी दरबार, रायपुर में संत शिरोमणि श्री युधिष्टर लाल जी के आशीर्वाद से सफलता पूर्ण सम्पन्न हुआ। इस समारोह के श्री विक्रम बत्रा व शादानी सेवा मण्डल का सहयाओग कबीले-तारीफ है। संस्था की अध्यक्ष डॉ॰ कमला गोकलानी, महासचीव श्री टेकचंद मस्त, जनरल सचिव श्री होतचंद पहुजा ने अथक प्रयास करते हुए इसे अंत तक अंजाम दिया।

दो-दिवसीय के इस अधिवेशन के दौरान  शादानी दरबार के इतिहास की जड़ों से लेकर आज तक के शादाब गुलिस्ताँ के तवील सफर की गाथा पर पेपर्स के माध्यम से रौशनी पेश की गई,  जो नवोदित साहित्यकारों और महमानों के लिए एक विशिष्ट परिचय साबित हुई । पेपर दो सत्रों में पढे गए—27 तारीख पहले सत्र में भागीदार रहे— डॉ॰ कमला गोकलानी, नीता  पंजवानी, व सिंधु दर्शन टी॰ वी॰ की पी॰आर॰ पी श्रीमति चंदा वीरानी ।

Chanda, Tekchand Mast Me, Kamala G, Hirani, Meera Balany

उसी सुबह देवी नागरानी जी की नवनीतम संग्रह “भजन-महिमा” का विमोचन साईं युधिष्टर लाला के हाथों हुआ। अवसर पर साथ में जबलपुर से आए संत मोहनदास, सिन्धी साहित्य के बनीकार श्री लीला राम जी, संस्था की अध्यक्ष डॉ॰ कमला गोकलानी, महासचीव श्री टेकचंद मस्त, पूर्व अध्यक्ष श्री चंद्रू हिरानी भी हाजिर रहे।  इस सत्र की संचालन कार्यवाई श्री टेकचंद मस्त परिचय के साथ बखूबी करते रहे।                                                   उसी दिन शाम चार बजे, साईं जी की अध्यक्षता में सिंधी काव्य पाठ हुआ जिसमें ग़ज़ल गीत, आज़ाद रचनाएँ व व्यंग भी शामिल रहा और शिरकत करने वालों में रहे—नीता पंजवानी, प्रकाश पंजवानी,  ज्ञानचंद व इन्दुमति शहदादपुरी, देवी नागरानी, भगवान बाबानी, भारती गोकलानी, हरी चोइथानी, प्रेम तनवाणी, होतचंद पहुजा, कैलाश शादाब, चंदा वीरानी, मुरली माखीजा, विजय थावानी, कमला गोखलानी, टेकचंद मस्त। आए महमानों में रही अदीबा मीना रूपचंदानी, आशा रंगवानी, मीरा बालानी और अन्य ।  मुशाइरे का संचालन हास्य-व्यंग की तहज़ीब को अभिव्यक्त करते हुए, भोपाल के अदीब बल्लु चोइथानी जी ने किया।

28 तारीख के दूसरे सत्र में शामिल हुईं—रायपुर की लेखिका जया जादवानी, दया जशनानी, रायपुर वासी अदीब श्री मुरलीधर माखीजा। जनरल सचिव श्री होतचंद पहुजा सभी आए  महमानों का शुक्रिया आता किया।

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में इस अवसर पर एक महायज्ञ के साहित्यिक अधिवेशन के साथ-साथ शिव अवतारी संतसतगुरु शदाराम साहिब जी का 304 वां जन्मोत्सव, संत राजराम जी का 130 वां जन्मोत्सव एवं संत गोविंदराम साहिब जी का 68 जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया गया।2012 Nov Raipur Goa 048

शनीवार तारीख 28  ओक्टोबर की रात 17 जोड़ों का समोहिक सगाई उत्सव धूमधाम से हुआ, यह एक ऐतिहासिक घटना रही जहां सामाजिक और धार्मिक कार्य को संपन्नता हासिल हुई। दशहरे के दिन 11 बच्चों का सामूहिक मुंडन हुआ, यह एक पथ-प्रदर्शन का मार्ग खोल रहा है। इस समारोह में शामिल रहे जाने माने समाज के शिरोमनी श्री सुनील सोनी, श्री बृजमोहन अग्रवाल। इन सामाजिक, व धर्मिक कार्यों का संस्थाओं द्वारा होना, समाज में प्रखरता, और उजाले भरा भविष्य निर्माण करने में सहायक होगा, यह तय है!! इस शुभ दिन साईं ने सामेलन में भागीदारी लेने वाले और अन्य मेहमानों का शाल और फूल माला के  साथ अपने हाथों सन्मान किया, जो मानवता के लिए सबसे बड़ा आशीर्वाद रहा। जयहिंद,

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

  • Blog Stats

  • मेटा

  • %d bloggers like this: