सप्तरंगी शाम -श्याम सखा जी के नाम,

Ghazal Srijan ka Vimochan

एक काव्य गोष्टी तारीख 10 मई, गुरुवार 2012 श्रीमती देवी नगरानी के निवास स्थान पर शाम श्याम सखा जी के नाम, और शकुंतलाजी, और अनीता कपूर जी की उपस्थिती में सफलता से सम्पन्न हुई। सप्तरंगी शाम अपने साथ काव्य का छलकता हुआ जाम ले आयी और मौजूद कविगन को काव्य के हर रंग से ओतप्रोत करती रही। । इस गोष्टी में हरियाणा साहित्य अकादमी के निदेशक श्री श्याम सखा श्याम जी, रायपुर से श्रीमति शकुंतला तरार-संपादिका नारी का संबल, श्री नन्द किशोर नौटियाल जी, Shakuntala Tarar ka sanmaanमहाराष्ट्र अकादेमी के पूर्व अध्यक्ष, जिनकी उपस्थिती ने शाम को और रंगमय बना दिया। शुरूवात जसराज पंडित जी के तेजस्वी शागिर्द कुमार नीरज ने करके गोष्टी का आगाज किया, केन्द्रीय हिन्दी प्रशिक्षण से सहायक निदेशक श्री अनंत श्रीमली जी ने संचालन का भर संभाला, जो खुद एक बहतरीन हास्य व्यंग्य कवि/मंच संचालक एवं सहायक निर्देशक, भारत सरकार, गृह मंत्रालय, राजभाषा विभाग में कार्यरथ हैं। उपस्थित माननीय कवि गण में श्री आर. पी. शर्मा, ग़ज़ल के पिंगलाचार्य थे जिनकी नवनीतन संग्रह “ग़ज़ल सृजन” का विमोचन किया श्री श्याम सखा और नन्द किशोर नौटियाल जी की उपस्थिती में हुआ। मौजूद महमानों में रहे श्री आर. पी. शर्मा जी के सुपुत्र श्री रमाकांत शर्मा , संगीता सहजवाणी, मेघा श्रीमाली, श्रुति संवाद के अध्यक्ष श्री अरविंद राही, संयोग साहित्य के संपादक श्री मुरलीधर पांडेय, कुतुबनुमा की संपादिका श्रीमती राजम नटराजम, चित्रकार नईमा इम्तियाज़, जिसने ऐन मौके पर देवी जी को अपनी एक पेंटिंग भेंट की। और शामिल गण थे खन्ना मुजफ्फरपुरी , डॉ बनमाली चतुर्वेदी, सुमन जैन जी, डॉ लछमन शर्मा, सतीश शुक्ल जी, नीरज गोस्वामी, नवीन चतुर्वेदी, मुंबई की वरिष्ठ रचनाकार पुष्पा राव, रत्ना झा, , लखबीर वर्मा जी उपस्थित थे। 5 घंटों तक चली इस काव्य-गोष्टी में उपस्थित गुनिजनों ने एक से एक बढ़िया गजल और कवितायें सुना कर काव्यमयी शाम को एक यादगार शाम बना दिया। अंत में नागरानी जी ने सभी महमानों का आभार प्रकट किया, शाम जलपान से  सम्पन्न हुई।

‘भारतीय-नार्वेजीय सूचना एवं सांस्कृतिक फोरम 2011

Oslo Sanmaan

7 मई, 2011  भारतीय- नार्वेजीय सूचना एवं सांस्कृतिक फोरम , (स्थान) वाइतवेत कल्चर सेंटर ओस्लो में नार्वे का स्वतन्त्रता दिवसगुरुदेव रवींद्र नाथ टैगोर के १५० वे जन्मदिन पर  इस संस्था के अध्यक्ष सुरेशचंद्र चन्द्र शुक्ल ‘शरद आलोक’ जी के आयोजन में मनाया गया। मुख्य अतिथि  स्थानीय मेयर थूर स्ताइन विंगेर और भारतीय दूतावास के सचिव बी के श्रीराम जी ने अध्यक्षता में विशिष्ट अतिथि रही जानी-मानी यू एस ए की कवियित्री श्रीमती देवी नागरानी जिन्हें हिंदी साहित्य सेवा के लिए सम्मानित किया गया.

श्री आर॰ पी॰ शर्मा “महरिष” की पुस्तक “ग़ज़ल-सृजन”

आर॰ पी॰ शर्मा ‘महरिष’ ग़ज़ल के क्षेत्र में एक जाना पहचाना नाम है। उन्होने ग़ज़ल लेखन का मार्ग सुगम और प्रशस्त करने के लिए ग़ज़ल, बहर और  पर कई उपयोगी पुस्तकें लिखीं हैं। इस श्रंखला में “ग़ज़ल-सृजन” उनकी नवनीतम पेशकश है, इसमें ग़ज़ल के बाहरी और आंतरिक स्वरूप, काफिया, रदीफ़, कथ्य एवं शिल्प तथा ग़ज़ल की अन्य बारीकियों की विस्तार से चर्चा की गई है, तथा पर्याप्त संख्या में प्रचलित बहरों के अंतर्गत तख़्ती के उदाहरण दिये गए हैं। इसकी अतिरिक्त इस पुस्तक में अन्य काव्य विधाओ, रुबाई, हाइकु रुबाई, महिया, महिया ग़ज़ल, तज़मीन, दोहा, जनक छंद तथा ग़ज़लों के लिए उपयुक्त छंदों और ग़ज़ल से संबंदित अन्य सुरुचिपूर्ण सामाग्री का भी समावेश है….इस संग्रह को हासिल करने के लिए संपर्क करें

  • श्री आर॰ पी॰ शर्मा , Flat. 402, Plot 11 A, Shri Ramniwas Society, Peston Sagar Road, No:3, Ghatkopar Mahul Road, Chembur, Mumai 400089.  Phone: 9321545179
  • देवी नागरानी : 9-D, Corner View Society, 15/33 Road, Bandra, Mumbai 400050.   Ph: 9987928358, dnangrani@gmail.com
  • मुरलीलीधर पाण्डेय, संपादक: संयोग साहित्य ,                                                        

204/A, Chintamani, RNP Park,(opp Kashinath Temple), Bhayander(E), Mumbai 401105 , Ph: 9920311683, Res: 022-28151737

  • Blog Stats

  • मेटा