रिश्ता तो सब ही जताते है

ग़ज़लः ४०

रिश्ता तो सब ही जताते है

पर कुछ ही खूब निभाते है.

 दुख दर्द हैं ऐसे महमां जो

आहट के बिन आ जाते है. 

गर्दिश में सितारे है जिनके

वो दिन में भी घबराते है.

 विश्वास की दौलत वालों को

रातों के अंधेरे भाते है.

ज़ंजीर में यादों की देवी

हम खुद को जकड़ते जाते है.

चराग़े-दिल/ ६६

Advertisements

4 टिप्पणियाँ

  1. अक्टूबर 7, 2009 at 12:52 अपराह्न

    Geet gata chala gya sda apnadard chupata chala gaya

  2. अक्टूबर 30, 2009 at 3:58 पूर्वाह्न

    hi sir mai mahendra rajoriya from shivpuri maine aapki sabhi kabita padi hai or aage bhi padta rahoonga .

  3. नवम्बर 5, 2009 at 12:48 अपराह्न

    Hello sir mai aapki kavita ka dewana hoo Mahendra

  4. दिसम्बर 14, 2009 at 2:22 पूर्वाह्न

    Mahendra ji
    Mere prayas ko ek disha milti hai. bus meri koshishen aapke saamne hai
    dhanywaad ke saath
    Devi Nangrani


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

  • Blog Stats

  • मेटा

  • %d bloggers like this: