आंधियों के भी पर कतरते है

गजलः ५

आंधियों के भी पर कतरते हैं
हौसले जब उड़ान भरते हैं.

ग़ैर तो ग़ैर हैं चलो छोड़ो
हम तो बस दोस्तों से डरते हैं.

जिंदगी इक हसीन धोका है
फिर भी हंस कर सुलूक करते हैं.

राह रौशन हो आने वालों की
हम चराग़ों में खून भरते हैं.

खौफ़ तारी है जिनकी दहशत का
लोग उन्हीं को सलाम करते हैं.

कल तलक सच के रास्तों पर थे
झूठ के पथ से अब गुज़रते हैं.

हम भला किस तरह से भटकेंगे
हम तो रौशन ज़मीर रखते हैं

आदमी देवता नहीं फिर भी
बन के शैतान क्यों विचरते हैं.

 

चराग़े-दिल /३१

Advertisements

7 टिप्पणियाँ

  1. अगस्त 27, 2007 at 12:43 पूर्वाह्न

    हम भला किस तरह से भटकेंगे
    हम तो रौशन ज़मीर रखते हैं

    सही आत्मविश्वास

  2. अगस्त 27, 2007 at 1:28 अपराह्न

    Aadraniye Dev ji
    Har sger achaa lagaaaaaa.:)
    SaAdar
    Hem jyotsana

  3. अगस्त 27, 2007 at 9:13 अपराह्न

    राह रौशन हो आने वालों की
    हम चराग़ों में खून भरते हैं.

    सुंदर …अच्छा लगा …बधाई

  4. अगस्त 28, 2007 at 2:27 पूर्वाह्न

    तीन दिन के अवकाश (विवाह की वर्षगांठ के उपलक्ष्य में) एवं कम्प्यूटर पर वायरस के अटैक के कारण टिप्पणी नहीं कर पाने का क्षमापार्थी हूँ. मगर आपको पढ़ रहा हूँ. अच्छा लग रहा है.

  5. prakruti said,

    अगस्त 30, 2007 at 7:36 पूर्वाह्न

    Khulus dil mein , jaban mein , mithas rahane do /
    Na khud raho, na kisi ko udas rahane do //

  6. अगस्त 31, 2007 at 2:41 पूर्वाह्न

    प्रक्रुती जी
    आपके शब्दो् मे् निहां सँदेस पाया, जिसके लिये बहुत शुक्रगुजञार हूं.

    कुछ भी हो जाये पर न अश्क बहने दो.

    जो राख के तले हैं मगर दे रहे हैं आँच
    चिंगारियां को ऐसी बुझाया न कीजिये.

    नाम में गलती हुई हो तो माफ़ी चाहती हूँ.

    सादर देवी

  7. अगस्त 31, 2007 at 3:02 पूर्वाह्न

    राकेश जी
    बहुत अच्छा किया उस विश्वास को कायम रखने की शम्अ जलाये रखने में.

    कामनाओं साहित
    देवी


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

  • Blog Stats

  • मेटा

  • %d bloggers like this: